Top Stories

Grid List

बिग बॉस फेम पूजा मिश्रा का अब आएगा नया रियलिटी शो

 

 

Spare Me The Crab Mentality नाम से होगा शो

 

 

छिपे हुए कलाकारों को टीवी पर लाने वाला नया शो

 

गौरव पुरस्कार से हुई पूजा सम्मानित

शमा खान - दिल्ली - दिल्ली यूनिवर्सिटी के हंसराज कॉलेज में बिग बॉस फेम पूजा मिश्रा को शहीद भगत सिंह गौरव पुरस्कार से  नवाज़ा गया। उनको ये सम्मान उनके आने वाले नए शो स्पेयर मी द क्रैब मेंटेलिटी के लिए दिया गया। आपको बता दें महिला होने के साथ साथ पूजा मिश्रा हर नए कलाकारों को एक मौका देना चाहती है और उन्हीं नए कलाकारों को दुनिया के सामने लाने का काम पूजा मिश्रा कर रही है। उनका ये शो हर एक प्रतिभा शाली व्यक्तियों को आगे बढ़ाने के लिए है। जिससे जो बॉलीवुड की दुनिया में अपना कदम रखना चाहते हैं वो पैर जमा सके। 

वहीं प्रोग्राम में सम्मान लेने के बाद पूजा मिश्रा ने मीडिया को बताया कि वो बहुत गर्वित महसूस कर रही है कि प्रतिबिम्ब सोसाइटी ने महिला सशक्तिकरण को समझा और उनके द्वारे आने वाले प्रोग्राम के लिए उन्हें सम्मानित किया। साथ ही पूजा ने कहा कि उनका आने वाला शो बहुत युवाओं के लिए बेहतर स्टेज होगा। जिससे हर आम इंसान को एक नया मौका मिल सकेगा। पूजा ने कहा कि जो इस रिएलिटी शो में बेहतर परफॉर्मेंस करेगा और जीतेगा उसे वो अपनी आने वाली फिल्म जड़ में भी मौका देंगी। आपको बता दें पूजा मिश्रा बिग बॉस सीज़न 5 और बिग स्विच में रनर अप रह चुकी हैं।

 

वहीं शहीद भगत सिंह गौरव पुरस्कार दूसरी बार हुआ है। पिछले साल ये प्रोगाम कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में हुआ था जिसे प्रतिबिम्ब सोसाइटी के ज़रिए कराया गया था। इस प्रोग्राम में दिल्ली के स्पेशल सीपी संजय बेनीवाल, दिल्ली फायर सर्विस के मुख्य फायर अधिकारी विपिन केंटल समेत कई पुलिस अधिकारी, नेता आदि शामिल हुए थे। वहीं इस प्रोग्राम में वीओएच न्यूज़ के एडिटर शहज़ाद आब्दी को भी सम्मानित किया गया।

 

V.o.H News


उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में गुरुवार(26 अप्रैल) को रेलवे क्रासिंग पार करते वक्त स्कूली वैन की ट्रेन से टक्कर के बाद 13 बच्चों की मौत हो गई। जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर का दौरा किया। लापरवाह अधिकारियों को निलंबित कर पीड़ित परिवारों की मदद का भरोसा दिया। इस दौरान योगी आदित्यनाथ को भीड़ के आक्रोश का भी सामना करना पड़ा। जिससे नाराज होकर योगी आदित्यनाथ ने भीड़ से कह दिया-नौटंकी बंद करो।

V.o.H News


आयकर विभाग ने लालू यादव फैमिली पर बड़ी कार्रवाई की है। आयकर विभाग ने पटना के शेखपुरा में बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और लालू यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव की हजारों वर्गफीट जमीन को जब्त कर लिया है। आयकर विभाग ने बेनामी पॉपर्टी ट्रांसफर एक्ट के प्रावधानों के तहत 7105 वर्ग फीट जमीन को जब्त किया है।

V.o.H News, शहजाद आब्दी


नौगावां सादात:  शबे बारात व आतिशबाजी का गहरा नाता है। त्योहारों में फोड़े जाने वाले पटाखे अब हमारी ही मौत का सामान बनते जा रहे हैं। हवा में जहर घोलते ये पटाखे कई प्रकार की शारीरिक व मानसिक व्याधियों को जन्म दे रहे हैं। प्रतिवर्ष शबे बारात पर कई लोग पटाखों से जल जाते हैं व कई अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं। अनार, रॉकेट, रस्सी बम आदि धमाकेदार पटाखों के शौकीनों के साथ तो ये हादसे होते ही हैं। उस विध्वंसकारी चीज को आखिर हम इस्तेमाल क्यों करते हैं, जो हमें केवल क्षणिक सुख देती है

V.o.H News:


चीफ जस्टिस के खिलाफ सात दलों के सांसदों की ओर से महाभियोग की नोटिस देने के दो दिन बाद सुप्रीम कोर्ट के दो वरिष्ठ जजों जस्टिस रंजन गोगोई और मदन लोकुर ने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर शीर्ष कोर्ट के भविष्य और संस्थागत मुद्दों पर फुल कोर्ट में बहस की मांग की है।विपक्ष की महाभियोग की नोटिस को सोमवार को उप राष्ट्रपति और राज्यसभा के चेयरमैन वैंकैया नायडू खारिज कर चुके हैं। जस्टिस दीपक मिश्रा के अक्टूबर में रिटायर होने के बाद वरिष्ठता के चलते जस्टिस रंजन गोगोई मुख्य न्यायाधीश पद के सबसे प्रबल दावेदार हैं।

जस्टिस दीपक मिश्रा को लिखे अपने पत्र मे कोलेजियम के सदस्य दोनों जजों ने उनसे फुल कोर्ट गठन की मांग की है, जिसमें संवैधानिक, संस्थागत मुद्दों पर चर्चा हो। हालांकि अभी चीफ जस्टिस ने इस पत्र का जवाब नहीं दिया है। सूत्र बताते हैं कि जब सोमवार(23 अप्रैल) को चाय पर चर्चा के दौरान सुप्रीम कोर्ट के कुछ जजों ने फुल कोर्ट का मुद्दा उठाया, तब चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा इस पर गंभीर नहीं दिखे।जब न्यापालिका से जुड़े सार्वजनिक महत्व के मुद्दे सामने आते हैं तब मुख्य न्यायाधीश की ओर से फुल कोर्ट बनाई जाती है।

बता दें कि 21 मार्च को वरिष्ठतम जजों में से एक जस्टिस चेलमेश्वर ने सभी जजों को पत्र लिखकर कहा था कि जजों की नियुक्ति में सरकार की दखलंदाजी पर फुल कोर्ट में बहस हो। उन्होंने यह पत्र सरकार की ओर से कर्नाटक के एक जज के खिलाफ जांच कराने की मांग के बाद लिखा गया था, जिस जज को कोलेजियम ने हाई कोर्ट में तैनाती की सिफारिश दी थी। हालांकि चीफ जस्टिस ने इस पत्र का भी जबाव नहीं दिया था।

जस्टिस चेलमेश्वर ही नहीं बल्कि जस्टिस कुरियन जोसेफ ने हाल में नौ अप्रैल को चीफ जस्टिस को पत्र लिखकर सात जजों की बेंच बनाकर जजों की नियुक्ति को लेकर कोलेजियम की सिफारिशों पर सुनवाई की मांग की थी। कोलेजियम ने जस्टिस केएम जोसेफ और इंदु मल्होत्रा के सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति की सिफारिश की थी, मगर सरकार ने इसे मंजूरी नहीं दी। जिस पर जस्टिस कुरियन जोसेफ ने विरोध जताया। बता दें कि चीफ जस्टिस को लगातार पत्र लिखने वाले चार जज जनवरी में प्रेस कांफ्रेंस कर सुप्रीम कोर्ट में केसों के आवंटन में पारदर्शिता न होने का आरोप लगा चुके हैं।

 

V.o.H News: 


नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में करीब पांच साल से जेल में बंद आसाराम पर जोधपुर कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने उसे दोषी करार दिया है। गिरफ्तारी से फैसले के बीच लगभग पूरा समय आसाराम जेल में ही रहा। इस बीच जमानत के लिए तमाम जुगत भिड़ाए, पर बड़े से बड़ा वकील भी बेल नहीं दिलवा सका।

V.o.H News, शहजाद आब्दी 


फिलिस्तीन पर अवैध ज़ायोनी क़ब्ज़े के 70 वर्ष बीत जाने तथा क़ुद्स को अवैध राष्ट्र की राजधानी के रूप में मान्यता देकर अमेरिकी दूतावास को क़ुद्स स्थान्तरित करने के फैसले के विरुद्ध प्रदर्शन कर रहे फिलिस्तीनी लोगों पर ज़ायोनी सेना की गोलीबारी पर चिंता व्यक्त करते हुए यूनिसेफ ने इन हमलों में घायल हुए बच्चों की भारी संख्या को लेकर चिंता जताई है

रूहुल्लाह आब्दी, ईरान से


शामी फौज ने दमिश्क और हमस के उपनगर इलाकों में आतंकवादियों का पीछा करते हुए उनके कई ठिकानों को अपने कब्जे में ले लिया है शामी फौज ने दमिश्क के दक्षिणी क्षेत्रों में फौजी कार्रवाई करते हुए दाईश के काफी ठिकानों को कब्जे में ले लिया है

(रूहुल्ला आबदी विशेष संवाददाता)


 

18 अप्रैल के दिन को तेहरान में ईरान विभाग खुफिया संस्था के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए इमाम सैयद अली ख़ामेनई ने कहा दुश्मन मोर्चे जासूस संगठन अपने सारे संसाधन दोहन के बावजूद अब तक ईरान के खिलाफ कोई भी महत्वपूर्ण कार्रवाई नहीं कर सकते। 

एक समाचार एजेंसी के अनुसार, सीरिया के वायुसेना प्रणाली ने हमस के अल शाईरात एयरबेस  पर इजरायल के मिसाइल हमले को बाधित कर दिया है।

शाम से मिलने वाली ताज़ा सूचना में बताया गया है कि शाम के प्रांत हमस पर इसराइल ने बीती रात मिसाइलों से हमला किया है जिसे शाम रक्षा प्रणाली ने हवा में नाकाम कर फ़ायर किए गए सभी 12 बैलिस्टिक मिसाइलों को निष्क्रिय बना दिया है।

अमेरिकी हमलों के खिलाफ सड़कों पर उतरे सीरियाई लोग। 

अमेरिकी हमलों के खिलाफ सड़कों पर उतरे सीरियाई लोग। 

 

रूहुल्लाह आब्दी, विशेष संवाददाता-सीरिया पर हुए हमले के बाद से पूरे विश्व मे अमेरिका के खिलाफ़ आवाज़ उठाना शुरू हो गयी है। अमेरिका,ब्रिटेन और फ्रांस की विश्व स्तर पर निंदा की गई है, जिसके बाद सीरियाई लोग सड़कों पर भी उतरे। 

रसा समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, शामी बहादुर, निहत्थे और गयूर जनता ने कल सुबह दमिश्क की सड़कों पर निकल कर शाम को अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की आक्रामकता की निंदा और विरोध किया।

लोगों का कहना है कि एक वैसे ही सीरिया आईएस और विद्रोही के हमलों को झेल रहा है ऊपर से अमेरिका मगरमच्छ आंसूं दिखाकर उसपर और ज़ुल्म कर रहा है। अगर अमेरिका, फ्रांस को इतनी ही सीरिया की फिक्र है तो आतंकियों को यहां से भगाये। नाराज़ नागरिकों का कहना है कि अमेरिका कि वजह से ही आतंकी यहां पनाह लिए हुए है।

प्रदर्शनकारियों ने संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस और सीरिया के खिलाफ सीरिया को मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय कानून के अधिकारों पर हमला किया।

 

सीरिया के प्रदर्शनकारियों, जिनमें महिलाओं और बच्चों सहित, सीरिया के खिलाफ हर तरह की आक्रामकता में सीरिया की सेना और सरकार के खिलाफ खड़ा होने का दृढ़ संकल्प था।

 

सीरिया की राजधानी दमिश्क में कल सुबह होने वाले प्रदर्शन ने दिखा दिया कि सीरियाई जनता दुश्मन के खिलाफ एकजुट हो रहे हैं और उन्होंने अपने गठबंधन और एकजुटता से जिस तरह आईएस और जभतह  नुस्रा जैसे  आतंकवादी समूहों को हराया इस बार उनके समर्थक देशों को भी मात देगी। 

 

 

गौरतलब है कि अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने रासायनिक हथियारों का बहाना बना कर बिना किसी सबूत के कल सुबह शाम पर मिसाइल हमला किया जिस पर विश्व स्तर पर तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है। यह हमला ऐसे में किया गया जब शाम सेना ने आइएस और जभतह नुस्रा जैसे आतंकवादी समूहों को हराया था जिससे बखूबी दिखाई देता है कि अमेरिका और उसके कुछ सहयोगी आइएस और जभतह नुस्रा जैसे आतंकवादी समूहों की हार से न केवल आपका नहीं बल्कि वे आतंकवादियों को बचाने के लिए आतंकवाद का मुकाबला करने वाले सीमावर्ती देशों और आंदोलनों नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। और सीरिया पर हमला भी इसी लिए किया गया है।

V.o.H News: पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मुहम्मद फ़ैसल ने मंगलवार को प्रेस काॅन्फ़्रेंस में कहा कि पाकिस्तान की सात निजी कंपनियों पर अमरीका का प्रतिबंध एक राजनैतिक कार्यवाही है। उन्होंने कहा कि ख़तरनाक परमाणु गतिविधियों के बहाने लगाए जाने वाले प्रतिबंध के मामले की पाकिस्तान समीक्षा कर रहा है। पाकिस्तानी प्रवक्ता ने कहा कि इस्लामाबाद परमाणु हथियारों के अप्रसार के प्रति कटिबद्ध है और पाकिस्तानी कंपनियों पर प्रतिबंध के मामले का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए।