कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद रात भर रोती रही स्टाफ नर्स, सुबह फोन किया तो बोले गलती हो गई, आप हैं निगेटिव

बड़ी खबर
Typography

मेरठ मेडिकल कॉलेज स्टाफ ने अमरोहा के जिला अस्पताल में तैनात स्टाफ नर्स को उनकी सैंपल रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव बताकर घर में कोहराम मचा दिया। 13 घंटे तक परेशान रही नर्स डिप्रेशन में चली गई और पूरी रात नहीं सो पाई। 

 

शुक्रवार सुबह 11 बजे नर्स के पति ने मेडिकल कालेज फोन कर आईसोलेट होने के बारे में पूछा तो बताया गया है कि उनकी पत्नी की रिपोर्ट निगेटिव थी, गलती से पॉजिटिव हो गया था। इसके बाद परिजनों ने राहत की सांस ली। 

मेरठ के इंदिरा नगर ब्रह्मपुरी निवासी सुरभि शर्मा (28) पत्नी राजन शर्मा जिला अस्पताल अमरोहा में स्टाफ नर्स है। वह रोजाना मेरठ से आती-जाती है। सुरभि के मुताबिक 24 अप्रैल को वह ड्यूटी करके मेरठ घर लौटी थी। 

इस बीच जिला अस्पताल अमरोहा का एक स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव मिला। एहतियात के तौर पर सुरभि ने 29 अप्रैल को मेरठ मेडिकल कॉलेज में अपना सैंपल कराया।गुरुवार रात करीब दस बजे उनके पति के मोबाइल पर मेडिकल कालेज से कॉल आई कि उनकी पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वह पति के साथ मेडिकल कालेज पहुंची।

 

पति राजन ने बताया कि डाक्टरों ने कहा आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जाना था। लेकिन, डाक्टरों ने उन्हें आइसोलेशन वार्ड में जाने से रोक दिया। पति राजन के मुताबिक डाक्टरों ने कहा, सुरभि में सिमटम नहीं मिले हैं। 

उनकी दोबारा जांच की जाएगी। इसके बाद दोनों को घर भेज दिया गया। तीन साल की बेटी और परिवार के सात सदस्यों ने कैसे रात काटी यह वही बता सकते हैं। राजन ने इसे मेडिकल कालेज की घोर लापरवाही बताया है।     

मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डा. धीरज बालियान ने यह कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया कि हार्ड कॉपी पर मिस प्रिंटिंग के कारण गलतफहमी हो गई, लेकिन मेल की रिपोर्ट से स्थिति साफ है।(साभार: अमर उजाला)