अगर आपके पास भी कोई ख़ास खबर है तो हमें हमारे ईमेल या whatsapp पर भेज सकते हैं- mobile 9548948471 email- editor.vohnews@gmail.com

कांग्रेस ने 'अमेजन' से PM मोदी को भेजी संविधान की कॉपी, कहा- जब देश को बांटने से वक्त मिल जाए तो इसे पढ़ें

देश
Typography

खास बातें

  • कांग्रेस ने पीएम को भेजी संविधान की प्रति
  • केंद्रीय सचिवालय का दिया पता
  • 'वक्त मिल जाए तो जरूर पढ़ें संविधान

 नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है, जो हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है. भारत को स्वतंत्र गणराज्य बनाने की दिशा में 26 जनवरी, 1950 को भारत का संविधान लागू किया गया था. बीते दिन जब देश 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा था, राजपथ पर विदेशी मेहमानों के साथ पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) कार्यक्रमों में शिरकत कर रहे थे, तब दूसरी ओर कांग्रेस (Congress) देश के प्रधानमंत्री को भारत के संविधान की प्रति भेजने की तैयारी कर रही थी. कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई. ट्वीट में ई-कॉमर्स वेबसाइट 'अमेजन' से ऑनलाइन संविधान की प्रति खरीदने का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा है, 'प्रिय प्रधानमंत्री, संविधान की प्रति जल्द आप तक पहुंच रही है. जब आपको देश को बांटने से समय मिल जाए तो कृपया इसे पढ़ें.'

कांग्रेस ने कई ट्वीट कर संविधान के कई अनुच्छेदों का भी जिक्र किया. कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'देश का संविधान प्रत्येक व्यक्ति के जीवन की सुरक्षा और उसकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता सुनिश्चित करता है. ये संविधान ही है जो न्यायिक प्रक्रिया की महत्ता तय करता है.' अगले ट्वीट में लिखा, 'हमारा संविधान थोपने के विचारों को प्रश्रय नहीं देता है. देश के नागरिकों को अपनी सुविधानुसार धर्म को मानने का अधिकार है और उन्हें बाध्य नहीं किया जा सकता.' कांग्रेस ने आगे लिखा, 'देश वही महान होता है, जहां सद्भावनापूर्ण और भेदभाव रहित समाज का निर्माण हो. हमारा संविधान ये सुनिश्चित करता है.'

 

माना जा रहा है कि कांग्रेस ने पीएम मोदी को नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन के चलते भारत के संविधान की प्रति भेजी है. शाहीन बाग में एक महीने से ज्यादा वक्त से संशोधित कानून के खिलाफ लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. प्रदर्शनकारियों में मुख्यतः मुस्लिम महिलाएं शामिल हैं. महिलाएं अपनी मांग पर अड़ी हैं कि जब तक केंद्र सरकार CAA को वापस नहीं ले लेती, वह धरनास्थल से नहीं हटेंगी. दूसरी ओर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) कई बार इस बात को दोहरा चुके हैं कि नागरिकता कानून किसी भी सूरत में वापस नहीं होगा. रविवार को शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों पर तंज कसते हुए शाह ने एक चुनावी रैली में कहा, 'बटन (EVM) तब इतने गुस्से के साथ दबाना कि बटन यहां बाबरपुर में दबे, करंट शाहीन बाग के अंदर लगे.' दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर शाह इन दिनों लगातार चुनावी प्रचार कर रहे हैं.(साभार: NDTV NEWS)

Latest News