प्रशांत किशोर का अमित शाह को जवाब- EVM का बटन प्यार से ही दबेगा, जोर का झटका धीरे से लगेगा

देश
Typography

 

  • खास बातें
  1. अमित शाह ने चुनावी रैली में दिया था बयान
  2. प्रशांत किशोर ने अमित शाह को दिया जवाब
  3. कहा- EVM का बटन तो प्यार से ही दबेगा

 

नई दिल्ली: दिल्ली के चुनावी दंगल (Delhi Assembly Elections 2020) में नेताओं की बयानबाजी का दौर जारी है. राजधानी में 8 फरवरी को विधानसभा की 70 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. 11 फरवरी को ऐलान होगा कि इस बार दिल्ली वालों ने राजधानी को संवारने के लिए किस पार्टी को पांच साल का मौका दिया है. दिल्ली में बीजेपी की सरकार बनाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने मोर्चा संभाला हुआ है. रविवार को बाबरपुर में उन्होंने एक चुनावी रैली में नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों पर तंज कसते हुए कहा, 'बटन (EVM) तब इतने गुस्से के साथ दबाना कि बटन यहां बाबरपुर में दबे, करंट शाहीन बाग के अंदर लगे.' अब JDU नेता प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने एक ट्वीट के जरिए अमित शाह को जवाब दिया है.

प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया, '8 फरवरी को दिल्ली में EVM का बटन तो प्यार से ही दबेगा. जोर का झटका धीरे से लगना चाहिए ताकि आपसी भाईचारा और सौहार्द खतरे में ना पड़े.' प्रशांत किशोर का यह ट्वीट पार्टी लाइन से हटकर कुछ अलग ही बात बयां कर रहा है. दरअसल दिल्ली में BJP और JDU मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं. JDU यहां 2 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. BJP की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने CAA के विरोध में चुनाव में नहीं उतरने का फैसला किया है. BJP से गठबंधन पर JDU नेता पवन वर्मा ने पार्टी प्रमुख नीतीश कुमार को चिट्ठी लिख नाराजगी जाहिर की थी. हाल ही में JDU ने 20 स्टार प्रचारकों की एक लिस्ट जारी की, जिसमें प्रशांत किशोर और पवन वर्मा का नाम नहीं था. झारखंड में हुए विधानसभा चुनावों में प्रशांत किशोर JDU के स्टार प्रचारकों की फेहरिस्त में शुमार थे.

बताते चलें कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में BJP और कांग्रेस बगैर मुख्यमंत्री चेहरे के मैदान में उतरे हैं. सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) अरविंद केजरीवाल के चेहरे पर ही चुनाव लड़ रही है. केजरीवाल इस बार भी नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने बीते शुक्रवार से चुनावी प्रचार शुरू किया. वह लगातार दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में रैली और रोड शो कर रहे हैं. केजरीवाल को उम्मीद है कि एक बार फिर दिल्ली में उनकी सरकार बनने जा रही है. इस बार दिल्ली नाम पर नहीं बल्कि काम पर वोट करेगी. उन्होंने दावा किया है कि पिछली बार वह 67 सीटें जीते थे और इस बार 70 की 70 सीटें AAP को ही मिलेंगी. BJP और कांग्रेस का खाता भी नहीं खुलेगा.(साभार: NDTV NEWS)

Youtube पर भी हमे Follow करें

हमारा Twitter एकाउंट Follow करें

Today News Bulletin

हमारा Facebook पेज Like करें

Latest News