रात के अंधेरे में परिवार वालों को घर मे बंद कर पुलिस ने पीड़िता का किया अंतिम संस्कार

हेडलाइंस
Typography

उत्तर प्रदेश सरकार महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बड़े बड़े वादे तो करती है ,लेकिन ज़मीनी हक़ीक़त कुछ और ही है हाथरस में हुई मासूम की मृत्यु के बाद योगी सरकार के दावों की पोल खुल कर सामने आगयी है।हाथरस  के चंदपा क्षेत्र के बुलगाड़ी में कथित गैंगरेप की शिकार पीड़िता की मौत के बाद पुलिस और जिला प्रशासन का शर्मनाक चेहरा सामने आया है।दिल्ली से शव लाने के बाद पुलिस ने उसे परिवार को नहीं सौंपा और रात में ही बिना रीति रिवाज के पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया। पुलिस और प्रशासन के इस रवैये से परिजनों व ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। इतना ही नहीं मीडिया को भी कवरेज से रोक दिया गया और बदसलूकी की गई।

इससे पहले जब शव गांव पहुंचा तो उसे परिजनों को नहीं सौंपा गया। इसके बाद परिजनों ने एम्बुलेंस के सामने लेटकर आक्रोश जताया।इस दौराम एसडीएम पर परिजनों के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा। इसके बाद पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई। दरअसल, परिजन रात में शव का अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते थे, जबकि पुलिस तुरंत अंतिम संस्कार कराना चाहती थी।इसके बाद आधी रात के बाद करीब 2:40 बजे बिना किसी रीति रिवाज के और परिजनों की गैरमौजूदगी में पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Youtube पर भी हमे Follow करें

हमारा Twitter एकाउंट Follow करें

Today News Bulletin

हमारा Facebook पेज Like करें

Latest News