ईरान की सबसे बड़ी सैनिक संस्था ने अमरीका को दी धमकी

विदेश
Typography

वैसे तो पिछले कई महीनों से अमरीका और उसके घटकों की गतिविधियां पश्चिमी एशिया के इलाक़े में तेज़ हो गई हैं लेकिन पिछले महीने फ़ार्स खाड़ी और ओमान सागर में अमरीकी सैनिकों ने उत्तेजक हरकतें शुरू कर दीं।

 

ईरान के आर्म्ड फ़ोर्सेज़ जनरल स्टाफ़ ने एक बयान जारी करके इलाक़े में अमरीकी सेना की उपस्थिति को शांति व सुरक्षा में अड़चन और ख़तरनाक बताया। इस बहुत अहम बयान में अमरीका की उत्तेजक हरकतों का हवाला देते हुए चेतावनी दी गई है कि अमरीका हर तरह के तनाव और और टकराव से बचने की कोशिश करे। बयान में कहा गया है कि अगर कोई टकराव होता है तो इसकी ज़िम्मेदारी अमरीका की होगी।

ईरान की सबसे बड़ी सैनिक संस्था की ओर से बयान जारी किया जाना बहुत महत्वपूर्ण घटना है और इसके कुछ निहितार्थ हैं।

पिछले साल तेल टैंकरों में धमाके, अमरीकी आधुनिक ड्रोन का ईरान द्वारा मार गिराया जाना, सऊदी अरब की आरामको कंपनी के तेल प्रतिष्ठानों पर बहुत बड़ा ड्रोन और मिसाइल हमला, अमरीका के आतंकी हमले में जनरल क़ासिम सुलैमानी और अबु महदी अलमुहंदिस की शहादत, इसके बाद ईरान की ओर से अमरीका की एनुल असद छावनी पर हमला, यह सारी घटनाएं पिछले महीनों के दौरान हुईं जिनके कारण यह कालखंड बड़ा महत्वपूर्ण हो गया है। वैसे इन घटनाओं की शुरूआत 2016 में ट्रम्प के अमरीका के राष्ट्रपति बन जाने के बाद से ही हो गई थी।

हालिया महीनों में अमरीकी सैनिकों की गतिविधियां बढ़ीं और इसके साथ ही अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने अपनी युद्धक नौकाओं को आदेश दिया कि वह ईरान की आईआरजीसी फ़ोर्स की नौकाओं पर हमला कर दें।

इन हालात में ईरान के आर्म्ड फ़ोर्सेज़ जनरल स्टाफ़ की ओर से जारी होने वाला बयान यह संदेश देता है कि अमरीका को अब सबक़ ले लेना चाहिए जो राजनैतिक, आर्थिक और सैनिक हर मोर्चे पर लगातार पराजय का मुंह देख रहा है। अगर अमरीका ने सबक़ नहीं लिया तो फिर शायद उसके पास सबक़ लेने और अपनी ग़लतियां सुधारने का मौक़ा नहीं रहेगा।

Youtube पर भी हमे Follow करें

हमारा Twitter एकाउंट Follow करें

Today News Bulletin

हमारा Facebook पेज Like करें

Latest News