Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeविदेशबशार असद को उखाड़ फेकने का सपना देखने वाले अब कर रहे...

बशार असद को उखाड़ फेकने का सपना देखने वाले अब कर रहे हैं उनका स्वागत! यूएई पहुंचे सीरियाई राष्ट्रपति का शानदार वेलकम

सीरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी साना ने शुक्रवार की रात को इस देश के राष्ट्रपति बशार असद के संयुक्त अरब इमारात दौरे की सूचना दी। सीरियाई राष्ट्रपति ने अपनी यूएई यात्रा के दौरान सबसे पहले संयुक्त अरब इमारात के प्रधानमंत्री शेख़ मोहम्मद बिन राशिद आले मकतूम के साथ मुलाक़ात की।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, शुक्रवार रात सीरिया के राष्ट्रपति बशार असद वर्षों बाद संयुक्त अरब इमारात की आधिकारिक यात्रा पर पहुंचे हैं। सीरियाई राष्ट्रपति का यूएई में भव्य स्वागत हुआ। बशार असद ने अपनी इमारात यात्रा का आरंभ इस देश के प्रधानमंत्री शेख़ मोहम्मद बिन राशिद आले मकतूम से मुलाक़ात के साथ किया। आले मकतूम ने दुबई में बशार असद और उनके साथ यूएई की यात्रा पर पहुंचे एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल का स्वागत किया। दोनों देशों के नेताओं के बीच हुई मुलाक़ात में अरब जगत और पश्चिमी एशिया में सुरक्षा, स्थिरता और शांति में योगदान को लेकर आपसी सहयोग और समन्वय पर बात हुई। संयुक्त अरब इमारात के प्रधानमंत्री ने सीरिया में जल्द पूर्ण रूप से शांति स्थापित होने की उम्मीद जताई। इस भेंटवार्ता के दौरान, दोनों देशों के नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों में विस्तार और मज़बूत बनाने के साथ-साथ आर्थिक, निवेश और व्यापारिक क्षेत्रों में भी विस्तार और सहयोग पर चर्चा की।

इस बीच सीरियाई राष्ट्रपति बशार असद ने संयुक्त अरब इमारात के युवराज मोहम्मद बिन ज़ाएद आले नेहयान से भी मुलाक़ात की। इस मुलाक़ात में भी दोनों देशों के नेताओं ने आपसी सहयोग और संबंध विस्तार पर बल दिया है। याद रहे कि सीरियाई राष्ट्रपति का संयुक्त अरब इमारात दौरा यूएई के विदेश मंत्री अब्दुल्लाह बिन ज़ाएद आले नहयान के दमिश्क़ दौरे के कुछ महीनों बाद ही हो रहा है। संयुक्त अरब इमारात के विदेश मंत्री ने पिछले साल नवंबर महीने में दमिश्क़ में सीरियाई राष्ट्रपति से मुलाक़ात की थी। उसी समय अब्दुल्लाह बिन ज़ाएद आले नहयान ने बशार असद को संयुक्त अरब इमारात की यात्रा का निमंत्रण दिया था।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2011 से सीरिया में अमेरिका, सऊदी अरब और कुछ पश्चिमी और अरब देशों का समर्थन प्राप्त आतंकवादी गुटों ने भारी तबाही मचाई थी। अमेरिका और उसके सहयोगियों का समर्थन प्राप्त आतंकवादी गुटों का सीरिया पर हमले का उद्देश्य इस देश की सरकार को कमज़ोर करके अवैध ज़ायोनी शासन को मज़बूती प्रदान करना था। लेकिन सीरियाई सेना ने इस्लामी गणतंत्र ईरान के सैन्य सलाहकारों की मदद और रूस के समर्थन से अमेरिका और उसके सहयोगियों के सभी सपनों पर पानी फेर दिया। इस समय सीरिया में आतंकवादी गुट लगभग अपने अंत पर पहुंच चुके हैं। इस बीच वे देश जो सीरिया में अमेरिकी साज़िशों के पूरा होने का सपने देख रहे थे, जब उन्होंने देखा कि अब बशार असद को सत्ता से हटाने का सपना, सपना ही रह जाएगा तब उन्होंने दमिश्क़ के साथ फिर से अपने संबंधों को स्थापित करना शुरू कर दिया। हालिया कुछ वर्षों से संयुक्त अरब इमारात भी सीरिया के साथ अपने संबंधों को फिर से बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है। ग़ौरतलब है कि सीरिया संकट के आरंभ में यूएई पूरी तरह बशार असद शासन का विरोधी था, लेकिन जब वर्ष 2018 में सीरियाई सेना ने तकफ़ीरी आतंकवादी गुटों को धूल चटाई तो संयुक्त अरब इमारात ने फिर से दमिश्क़ की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया। (RZ)

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments