Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeविदेशअमेरिका जान ले कि हम अपने लीडर के एक इशारे पर अमेरिका...

अमेरिका जान ले कि हम अपने लीडर के एक इशारे पर अमेरिका से दो दो हाथ करने के लिए तैयार हैं: ईरानी लोग

रिपोर्ट: शहजाद आब्दी

यहाँ क्लिक कर हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

प्रदर्शनकारियों ने इस्लामी इंक़ेलाब से अमेरिका की दुश्मनी तथा उसके षड्यंत्रों की कड़ी निंदा करते हुए इमाम खुमैनी , आयतुल्लाह ख़ामेनई तथा इस्लामी सत्ता प्रणाली से वफादारी का ऐलान करते हुए कहा कि हमें अमेरिका से न किसी समझौते की ज़रूरत है नहीं किसी संधि की, अमेरिका जान ले कि हम अपने लीडर के एक इशारे पर अमेरिका से दो दो हाथ करने के लिए तैयार हैं ।

विलायत समाचार वेबसाइट  प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान में महंगाई के विरुद्ध प्रदर्शन कर रहे लोगों के बीच घुस कर ईरान और इस्लामी गणतंत्र के विरुद्ध बलवा करने वाले आले सऊद और अमेरिका के एजेंटों को सजा देने तथा इस्लामी सत्ता प्रणाली और आयतुल्लाह ख़ामेनई के समर्थन में ईरान के करोड़ों नागरिक देश के कोने कोने में सड़कों पर उतर आये ।

ईरान के विभिन्न प्रांतों के अनेकों शहरों जैसे ईलाम , अहवाज, गुरगान, खुर्रामाबाद, अबादन, अराक, बुशहर , क़ुम , लोरिस्तान , बुरुजर्द , कुहदाश्त , इजना, दुरूद , नूराबाद , सराब दौरा, पुलेदुखतर समेत सैंकड़ों शहर में प्रदर्शनकारियों ने इस्लामी सत्ता प्रणाली और अपने प्रिय लीडर के समर्थन में विशाल रैलियां निकाली ।

प्रदर्शनकारियों ने इस्लामी इंक़ेलाब से अमेरिका की दुश्मनी तथा उसके षड्यंत्रों की कड़ी निंदा करते हुए इमाम खुमैनी , आयतुल्लाह ख़ामेनई तथा इस्लामी सत्ता प्रणाली से वफादारी का ऐलान करते हुए कहा कि हमें अमेरिका से न किसी समझौते की ज़रूरत है नहीं किसी संधि की, अमेरिका जान ले कि हम अपने लीडर के एक इशारे पर अमेरिका से दो दो हाथ करने के लिए तैयार हैं ।

करोड़ो लोगों ने एक आवाज़ होकर नारे लगते हुए कहा कि यह करोड़ों का लश्कर अपने लीडर के इश्क़ में सड़कों पर उतरा है । दूसरी ओर नेशापुर समेत ईरान के कई अन्य बड़े नगरों में जुमेरात को भी इस्लामी सत्ता प्रणाली और आयतुल्लाह ख़ामेनई के समर्थन तथा अमेरिका के काले करतूतों और षड्यंत्रों के विरुद्ध विशाल रैलियां आयोजित की जाएँगी ।

क़ुम समेत अन्य स्थानों पर लोगों ने हाल ही में सरकार विरोधी प्रदर्शन की आड़ में अमेरिका और आले सऊद के इशारों पर इस्लामी सत्ता प्रणाली को निशाना बना कर बलवा करने वाले शरारती तत्वों पर कड़ी क़ानूनी कार्यवाही की मांग करते हुए कहा कि अपने अधिकारों के लिए आवाज़ उठाना स्वभाविक है लेकिन किसी को इस बात की आज्ञा नहीं है कि वह क़ानून और इस्लामी सत्ता प्रणाली के विरुद्ध जाकर देश मे बलवा और फसाद करने की चेष्टा करे ।

प्रदर्शनकारियों ने इन घटनाओं को बढ़ा चढ़ाकर तथा ईरान के विरुद्ध दुष्प्रचार करने के लिए आले सऊद के विरुध्द भी जमकर नारेबाज़ी की ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments