Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeबिहारबिहार कांग्रेस में फूट, कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी के खिलाफ जमकर नारेबाजी

बिहार कांग्रेस में फूट, कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी के खिलाफ जमकर नारेबाजी

यहाँ क्लिक कर हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

शिवेश्वर कुमार। बिहार कांग्रेस में गुटबाजी के बीच रविवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई।कार्यकर्ताओं ने कार्यकारी अध्‍यक्ष का घेराव किया। घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कादरी ने कहा कि किसी को भी पार्टी तोड़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

जानकारी के अनुसार कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय सदाकत आश्रम परिसर में रविवार को नालंदा और लखीसराय के कार्यकर्ताओं ने बवाल काटा। इन जिलों के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि तमाम प्रक्रिया पूरी करने के बाद भी उन्हें निर्वाचित घोषित करने की बजाय उन्हें बाहर भेजने की तैयारी हो रही है। दोनों जिलों के नेताओं ने बारी-बारी से प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष से मिलकर उनके समक्ष अपना पक्ष भी रखा।
नालंदा और लखीसराय से आए कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पूर्व अध्‍यक्ष अशोक चौधरी के कार्यकाल में ही उनका निर्वाचन होने के बाद भी उन्हें निर्वाचित घोषित नहीं किया जा रहा है। पार्टी साजिश कर मनमाने तरीके से प्रतिनिधि का मनोनयन कर रही है। करीब घंटे भर चले बवाल के बाद भी पार्टी की ओर से कोई ठोस आश्वासन नहीं दिया गया।

पार्टी को प्रदर्शन की भनक पहले से ही मिल गई थी। नतीजा, कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में पुलिस की व्यवस्था भी की गई थी।

प्रदेश अध्‍यक्ष के चुनाव से जुड़ा मामला
प्रदेश कांग्रेस में कई महीने से स्‍टेट डेलिगेट्स का चुनाव चल रहा था। कई डेलिगेट्स को सूचना मिली कि उन्‍हें हटा दिया गया है। इससे वे भड़क गए। यह मामला आगामी प्रदेश अध्‍यक्ष के चुनाव से जुड़ा है। बताया जाता है कि पार्टी के एक गुट को आशंका है कि ये डेलिगेट्स व जिलाध्‍यक्ष अध्‍यक्ष के मनोनयन की स्थिति में उसके निर्वाचन की मांग कर सकते हैं। पार्टी के अलग-अलग गुट अपने पक्ष के डेलिगेट्स चाहते हैं।

अशोक चौधरी पर बरसे कादरी
घटना की बाबत कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि किसी भी कीमत पर पार्टी तोड़ने की इजाजात नहीं दी जाएगी। पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष अशोक चौधरी पर हमलावर कादरी ने कहा कि अगर किसी से भूल हुई है तो वह प्रायश्चित करे।

कादरी ने बताया कि सोमवार को स्‍टेट डेलिगेट्स की बैठक होने जा रही है। जो प्रतिनिधि निर्वाचित घोषित किए गए हैं, उन्हें सम्मेलन में आने का निमंत्रण दिया जा चुका है। कार्यक्रम में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, सांसद रंजीता रंजन, पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार समेत बिहार के चुनाव पदाधिकारी और राज्यसभा सांसद प्रदीप भट्टाचार्य भी शामिल रहेंगे। हमारी कोशिश है सबको साथ लेकर चलने की।

यह है मामला
विदित हो कि बिहार कांग्रेस का एक धड़ा लालू प्रसाद से पार्टी के गठबंधन का विरोधी है, जबकि पार्टी बिहार में लालू का साथ चाहती है। पूर्व अध्‍यक्ष अशोक चौधरी इस धड़े के लीडर बताए जाते हैं। विवाद पार्टी अध्‍यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी के पास पहुंचा। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष अशोक चौधरी पद से हटा दिए गए।

पद से हटाए जाने के बाद अशोक चौधरी ने पार्टी में गुटबंदी का खुला आरोप लगाते हुए इसके लिए प्रदेश कांग्रेस प्रभारी को सीधे तौर पर जिम्‍मेदार करार दिया। उन्‍होंने खुद को हटाए जाने के तरीके को अपमानजनक करार दिया। दूसरी ओर जदयू व भाजपा अशोक चौधरी के समर्थन में खड़े दिखे।

इसके बाद से कांग्रेस में आंतरिक कलह तेज है। अब सबका ध्‍यान अगले प्रदेश अध्‍यक्ष के निर्वाचन पर है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments