Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeउत्तर प्रदेशधौराहरा लोकसभा सांसद पर लगे जनता के साथ छलावा करने के आरोप 

धौराहरा लोकसभा सांसद पर लगे जनता के साथ छलावा करने के आरोप 

कस्ता / खीरी( हसन जाज़िब आब्दी): भारतीय जनता पार्टी की धौराहरा लोकसभा सांसद रेखा वर्मा ने लोकसभा क्षेत्र की जनता के साथ चुनावी घोषणा पत्र में जो वादे किए थे वह केवल चुनाव होने तक ही सीमित रहकर हवा हवाई साबित हुए यदि क्षेत्र की जनता की माने तो चुनाव से पूर्व घोषणा पत्र में दिए गए वादे कहीं पर भी क्षेत्र में नजर पूरे होते नजर नहीं आए

और ना ही क्षेत्र का सांसद चुनाव होने के बाद जनता के बीच आई लेकिन इन 4 वर्षों में केवल क्षेत्र के सांसद ने सत्ता का सुख भोग कर जनता को धोखा देने का काम किया यदि चुनावी घोषणा पत्र की बात की जाए तो जिसमें प्रमुखता से धौरहरा लोकसभा क्षेत्र के समस्त गांव में विद्युतीकरण कराना, क्षेत्र की समस्त विधानसभा में कन्या महाविद्यालय खोलने व तहसील  में अधिवक्ताओ के चैंबरो का निर्माण, सरकारी अस्पतालों को आधुनिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना आपातकालीन मोबाइल चिकित्सालय करवाने तथा समस्त ग्रामो को संपर्क मार्ग से जोड़ने व तहसील स्तर पर अग्नि शमन केंद्र की स्थापना व शिक्षामित्रों को नियमित कराने तथा वृद्धा विधवा विकलांग पेंशन सहित तमाम बिंदुओ का लाभ जनता को घोषणा पत्र में दिखा कर जनता का वोट लेकर सिर्फ छलने का काम किया गया जनता की माने तो चुनाव होने के बाद आज तक क्षेत्र का सांसद जनता का सुख दुख जानने नहीं आया लेकिन चुनाव आते ही क्षेत्र का सांसद कभी भी क्षेत्र में अपने सहयोगियों के साथ घूमता हुआ देखा जा सकता है।

        आपको बताते चलें की चुनाव से पूर्व घोषणा पत्र में किए गया कोई भी वादा धौराहरा लोकसभा क्षेत्र की 143 विधानसभा कस्ता में आज तक पूरा होता नजर नहीं आया और ना ही कहीं भी क्षेत्र में कन्या महाविद्यालय की स्थापना नहीं हुई और न ही नवसृजित तहसील मितौली में अग्निसमन केंद्र की स्थापना हुई जिसके चलते 6 अप्रैल 2018 को मैगलगंज थाना क्षेत्र के गांव कुसमी में लगी आग पर काबू पाने आए फायर स्टेशन गोला के  इंचार्ज सुरेंद्र सिंह शिंदे के साथ उनके सहकर्मी कमला कान्त तिवारी भीषण आग से जल रहे वट वृक्ष की डाल ऊपर गिरने के कारण जनता की सेवा करते हुए मौके पर ही शहीद हो गए यदि फायर स्टेशन या आग की बात की जाए तो कुसुमी  गांव से गोला करीब 50 से 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

       जबकि तहसील मुख्यालय मिताली महज 10 से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यदि फायर स्टेशन तहसील मुख्यालय पर होता तो भीषण आग पर काफी समय पहले ही काबू पा लिया जाता शायद गोला स्टेशन से आए जवान की जान भी जाने से बच जाती क्षेत्र के सांसद ने कस्ता विधानसभा की जनता को सिर्फ धोखा देने का काम कर सत्ता का सुख भोगने का काम किया है।

जनता के बीच उठता सवालिया निशान।

       क्या राजनेता हम गरीब जनता का वोट लेकर सत्ता का सुख भोगने के लिए चुनावी घोषणा पत्र हम लोगों के बीच लेकर आते हैं और झूठे सपने दिखा कर जनता की वोट लेकर सत्ता का सुख भोंगते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments