Friday, June 14, 2024
No menu items!
Homeउत्तर प्रदेशयुपी में भूख से मर गया दलित, प्रशासन ने कहा- बीमारी की...

युपी में भूख से मर गया दलित, प्रशासन ने कहा- बीमारी की वजह से नहीं खाया खाना

यहाँ क्लिक करके हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

महोबा। उत्तर प्रदेश से गरीबी, लाचारी, बेरोजगारी के चलते खाना न मिलने पर दलित व्यक्ति की भूख से मौत हो गई। इस मामले में प्रसाशन अपनी नाकामी छिपाने के लिए युवक की बीमारी को मौत का कारण बताकर पल्ला झाड़ने पर तुला है।

 

 

मामला महोबा जिले के घंडुआ गांव का है। यहां एक व्यक्ति की भूख से मौत हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कई दिनों से खाना न खाने की पुष्टि हुई है। लेकिन प्रशासन भूख से मौत की बातों को खारिज कर रहा है।

 

 

मृतक की पत्नी उषा का कहना है कि पिछले एक हफ्ते से घर में अनाज अनाज का एक दाना भी नहीं था। उसका पति बीमार जरूर था, लेकिन मनरेगा की मजदूरी न मिलने की वजह से वह इलाज नहीं करा सकी और भूख व इलाज के अभाव में पति की मौत हुई है।

 

हालांकि जिला प्रशासन ने स्वीकार किया कि ‘मृतक को कई दिनों से खाना नहीं मिला था, लेकिन यह भी संभव है कि वह बीमारी की वजह से खाना न खा सका हो।’ उन्होंने कहा कि फिर भी मृतक के दाह संस्कार के लिए पांच हजार रुपये और परिवार के लिए पचास किलोग्राम अनाज का इंतजाम कर दिया गया है।

 

 

अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) महोबा महेंद्र सिंह ने मंगलवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से बताया कि मृतक छोट्टन (38) को मधुमेह की बीमारी थी और उसकी मौत से ही बीमारी से हुई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments