Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeदेशचुनाव आयोग मांग रहा है और ज़्यादा अधिकार, ताकि कुचल सके विरोध...

चुनाव आयोग मांग रहा है और ज़्यादा अधिकार, ताकि कुचल सके विरोध की आवाज

नई दिल्ली। फिलहाल देश में बोलने की आजादी को लेकर एक बड़ी बहस चल रही है। अगर कोई सवाल उठाने की कोशिश कर रहा है तो सरकार उसे दबाने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है। जैसे बीएसएफ के जवान तेजबहादुर यादव ने खराब खाने को लेकर सोशल मीडिया पर शिकायत की और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया। फिर मध्य प्रदेश में फसल के उचित मुल्य की मांग कर रहे किसानों पर सरकार ने गोली चलवा दी जिसमे 6 किसानों की मौत हो गई। अगर छात्र सरकार से सवाल पूछ रहे है तो उन्हे जेल में ठूस दिया जा रहा है…

 

 

देश में हालात ऐसे हो चुके हैं कि सवाल पूछने पर सजा दे दी जा रही है। अब चुनाव आयोग भी अपने लिए एक डंडे की मांग कर रहा है ताकि वो सवाल पूछने वाले पर उस डंडे का इस्तेमाल कर सके। चुनाव आयोग चाहता है कि जिस तरह कोर्ट के खिलाफ अनाप-शनाप बोलने पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट होता है मतलब अदालत की अवमानना होती है उसी तरह अब चुनाव आयोग को भी उसकी छवि खराब करने वालों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार दिया जाए।

 

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, करीब एक महीने पहले चुनाव आयोग ने कानून मंत्रालय को एक पत्र लिख कर कहा था कि चुनाव आयोग पर बेबुनियाद आरोप लगाकर उसकी छवि खराब करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार चुनाव आयोग को भी मिलना चाहिए। चुनाव आयोग चाहता है कि कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट एक्ट 1971 में संशोधन करके चुनाव आयोग की बात न मानने वाले, उसकी छवि खराब करने वाले या उससे सहयोग न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार दिया जाए।

 

बता दें कि कुछ दिन पहले कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का इस्तेमाल करके कोलकता हाईकोर्ट के दलित जस्टिस कर्णन को निलंबित कर दिया गया था। उन पर भी कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का चार्ज लगाया गया था क्योंकि उन्होंने न्यायपालिका में हो रहे भ्रष्टाचार की शिकायत पीएम मोदी से कर दी थी। अब चुनाव आयोग भी इसी तरह के अधिकारों की मांग कर रहा है जिससे कि वो स्वतंत्र रूप से तानाशाही कर सके। अगर चुनाव आयोग को इस तरह का अधिकार मिल जाता है तो वो अपने ऊपर उठ रहे तमाम सवाल को आसानी से कुचल देगा।

 

गौरतलब है कि यूपी चुनाव के बाद बसपा सुप्रीमों मायावती ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया था। वहीं गोवा और पंजाब विधानसभा चुनाव में हार के बाद आम आदमी पार्टी ने भी चुनाव आयोग के ईवीएम पर सावल उठाया था और चुनाव आयोग पर बीजेपी को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments