Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeविचारयहूदियों का अल-क़ुद्स में कोई हिस्सा नहीं है: रूहुल्ला आबदी

यहूदियों का अल-क़ुद्स में कोई हिस्सा नहीं है: रूहुल्ला आबदी

सन 1267 इसवी में पहली बार दो यहूदी आए,  उसके बाद से ही फिलिस्तीन में यहूदियों का आगमन शुरू हो गया और हम लापरवाही और संवेदी की चादर ताने सोए रहे. फिर जब सन् 1887 में फ़िलिस्तीन पर कब्जा करने के उद्देश्य से ” ज़ायोनी आंदोलन ” का गठन हुआ तो यहूदी पूंजीपतियों ने इस आंदोलन का समर्थन किया, मक्कार यहूदियों ने मुंह मांगी कीमतें देकर मुसलमानों की जमीनें खरीदीं , भवन बनाए, यहूदियों से फ़िलिस्तीन की ओर हिजरत करने की गुज़ारिश की गई। और ये नाजायज़ यहूदी आज इस हद तक पहुंच गऐ सरे आम बेगुनाह फिलिस्तीन नागरिकों पर ज़ुल्म कर रहे हैं। वक़्त के फिरओन अमरीका इस्राईल के कानों पर जूं भी नहीं रेंगती।

 

ज़ुल्म तो ये है कि जो देश और राजनेता अपने आप को मुसलमानों का हमदर्द और ठेकेदार समझते हैं वो खामोशी की चादर ताने सोए हुए हैं।
इसी लिए आयातुल्ला ख़ुमैनी ने कहा था के अगर सारे मुसलमान एकजुट होकर हर मुसलमान इस्राइल की तरफ एक एक बाल्टी पानी डाल दे तो इस्राईल इस धरती से मिट जाएगा। मगर दुख की बात तो ये है कि बाल्टी डालने की तो दूर की बात मुसलमान एकजुट होकर इस्राईल के विरोध में अपनी ज़बान खोलने को तय्यार नहीं।10 दिसम्बर के दिन पुरी दुनिया विश्व मानवाधिकार दिवस (world human rights day) मनाती है मानव जीवन अधिकारों की रक्षा की बात करते हैं। इन आखों वाले अंधों को फिलीस्तीन में दिखाई नहीं दे रहा है रोज़ ना जाने कितनी माँओं की गोदें उजड़ जाती हैं। कितनी महिलाओं का सुहाग उजड़ जाता है। इस्राइल की ज़ालिम फोज कितने नोजवानों को शहीद कर देती है। जिन बच्चों और नौजवानों के हाथ में पेन्सिल और किताबें होनी चाहिए थी आज उनके हाथों में पत्थर हैं। विश्व मानवाधिकार दिवस मनाने वालो से कहना चाहता हूं क्या फिलिस्तीन के लोगों को जीवन का अधिकार नहीं है क्या फिलीस्तीन के बच्चों और नौजवानों को स्कूल जाने और पढ़ने का अधिकार नहीं है।

अंत ये ही कहूँगा तारीख गवाह है ज़ालिम का ज़ुल्म और ज़ालिम की हुकूमत कभी ज़ादा जीवित नहीं रही है।
और हमें यह बात भी नहीं भूलनी चाहिए कि दुश्मन के उपाय कितना भी संगठित हों रात के बाद दिन और अंधेरे के बाद प्रकाश का आना सुनिश्चित है

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments