Tuesday, May 28, 2024
No menu items!
Homeउत्तर प्रदेशसरकार की बेरुखी के कारण अधर में लटका नौगावां सादात में 47...

सरकार की बेरुखी के कारण अधर में लटका नौगावां सादात में 47 आंगनबाड़ी केंद्र बनाने का प्रस्ताव 

नौगावां सादात: भारत सरकार गरीब परिवारों के उत्थान के लिए लगातार प्रयासरत है परन्तु अभीतक उत्तर प्रदेश सरकार व अफसरशाही की निगाह क्षेत्र के इस मुद्दे पर नहीं गयी है कि गरीब परिवारों के बच्चों को पौष्टिक आहार मिले व शुरुआती देखभाल अच्छी हो इसके लिए क़स्बा नौगावां सादात में एक भी आंगनबाड़ी केंद्र नहीं खोला गया है। वर्ष 2011 के आकड़ों के अनुसार क़स्बा क्षेत्र में 32954 लोग निवास करते हैं। आबादी के हिसाब से देखा जाए तो क़स्बा नौगावां सादात में लगभग 47 आंगनबाड़ी केंद्र चालू होने चाहिए थे।

जिला कार्यक्रम अधिकारी की माने तो  जनपद प्रशासन की ओर से प्रदेश सरकार को नौगावां सादात कस्बे में आंगनबाड़ी केंद्र खोले जाने का प्रस्ताव तीन बार भेजा गया, आखरी प्रस्ताव लगभग चार साल पहले भेजा गया था परन्तु इस प्रस्ताव पर लखनऊ में बेठे साहब ने निगाह ही नहीं डाली। 

क्या हैं मानक- 

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में आबादी के हिसाब से यह आंगनबाड़ी केंद्र खोले जाते हैं। शहर में सात सौ की आबादी पर एक केंद्र खोला जाता है। तो ग्रामीण क्षेत्र में डेढ़ सौ से पांच सौ की आबादी पर एक केंद्र और ग्रामीण सामान्य क्षेत्र में 500 से 750 की आबादी पर एक आंगनबाड़ी केंद्र खोला जाता है। जहां बच्चों व गर्भवती महिलाओं की देखभाल होती है। 

मिलता है पौष्टिक आहार के साथ हेल्थ चेकअप भी- 

आंगनबाड़ी केंद्र में जीरो से छह वर्ष तक के बच्चे को पौष्टिक भोजन, उनका टीकाकरण, और अनौपचारिक शिक्षा दी जाती है। इसके अलावा गर्भवती महिला को छह माह तक पौष्टिक आहार और समय-समय पर हेल्थ चेकअप भी कराया जाता है। साथ ही किशोरी बालिका और गर्भवती महिलाओं को पोषण आहार भी दिया जाता है। एक आंगनबाड़ी केंद्र पर एक संचालिका और एक सहायिका की नियुक्ति की जाती है। जिसमें संचालिका को 10 हजार रुपए और सहायिका को पांच हजार रुपए का भुगतान किया जाता है। साथ ही अप्रत्यक्ष रूप से वहां पर लगने वाले अन्य खाने के सामान आदि की सप्लाई के लिए भी लोगों को रोजगार मिलता है। 

नियमित रूप से बच्चों का वजन लेने का नियम- 

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का सबसे महत्वपूर्ण काम होता है नियमित रूप से बच्चों का वजन लेना और ज़रूरत के अनुसार उसे पूरक आहार देना। इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं को पोषण से संबंधित जरूरी जानकारियां भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता देती है। 

नौगावां सादात में आंगनबाड़ी केंद्र खोले जाने हेतु तीन बार प्रदेश सरकार को  प्रस्ताव भेजा जा चूका है, पिछला प्रस्ताव लगभग चार वर्ष पहले भेजा गया था केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद नौगावां सादात में आंगनबाड़ी केंद्र खोले जायेंगे- पूनम रानी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग अमरोहा 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments