Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeविचारशौकत ने बढ़ाया हाथ , ग़रीब बच्चों की बने आस

शौकत ने बढ़ाया हाथ , ग़रीब बच्चों की बने आस

 

V.o.H News:  शमा खान नई दिल्ली –  बिहार के गया जिला में जन्मे शौकत एक मध्यवर्गीय परिवार से हैं लेकिन ग़रीब बच्चों की पढ़ाई के लिए हमेशा उनकी मदद करने को आगे रहते  हैं , इंस्टिट्यूट ऑफ़ लर्निंग मेनिया नई दिल्ली के बैनर तले जामिया नगर में निर्धन एवं अनाथ बच्चों को दिए जा रहे निशुल्क तालीम से प्रभावित हो कर शौकत अली ने बच्चों के पठन पाठन सामाग्री के लिए पैसे भेजा है जिसे पाकर झुग्गी झोपड़ी के बच्चों में बेहद ख़ुशी पाई जा रही है

संवाददाता से दूरभाष पर बातचीत में शौकत ने बताया है के ८ वर्षों तक दिल्ली के जामिया मगर में रहने के कारण भी एक लगाव सा है और वो चाहते हैं के कोई भी बच्चा तालीम से महरूम ना रहे , इसी मक़सद से अपने  स्तर से एजुकेशन पर काम कर रहे सामाजिक संस्थानों को मदद करते हैं और उनकी हौसला अफ़ज़ाई के लिए हमेशा साथ खड़े रहते हैं , शौकत अली बिहार में गाँधी आज़ाद पब्लिक स्कूल के नाम से एक स्कूल चलाते हैं जहाँ ग्रामीण छेत्र के असहाय बच्चों को नाम मात्र फीस पर शिच्छा देते हैं

शौकत अली की सोच है कि देश में अगर अब भी बच्चे तालीम से दूर हैं तो ये देश के लिए विडंबना है

जिस देश में लोग चाँद पर जाने की बात करते हों जहाँ साइंस औरटेक्नोलॉजी ने इतना तरक़्क़ी की हो उसी देश के बच्चे अगर स्कूल नहीं पहुंच पा रहे तो ये सिस्टम में कमी है सरकार और आम लोगों को हर एक बच्चे को स्कूल पहुंचाने में मदद करने की आवश्यकता है,

शौकत अली ने कहा के हमारे समाज में प्रतिभा की बिलकुल भी कमी नहीं है हमारे बच्चे प्रतिभा से परिपूर्ण हैं उनको  सही दिशा दिखाने की ज़रुरत है कई बार विद्यार्थियों  को मालूम ही नहीं होता के उनको क्या करना है कहां जाना है, उनका करियर किस फील्ड में सूट करता है  उसके लिए भी जल्द ही एक एक्सपर्ट टीम के साथ ऑनलाइन करियर काउंसलिंग एंड गाइडेंस प्रोग्राम का  आग़ाज़ किया जायेगा ताकि ग्रामीण छेत्र से लेकर शहरी बच्चों तक को ऑनलाइन मार्गदर्शन किया जा सके। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments