Thursday, April 25, 2024
No menu items!
Homeउत्तर प्रदेशयूपी की योगी सरकार स्वस्थ्य सेवाएं देने में फेल, गोरखपुर के बाद...

यूपी की योगी सरकार स्वस्थ्य सेवाएं देने में फेल, गोरखपुर के बाद अब फर्रुखाबाद के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 49 बच्चों की मौत

यहाँ क्लिक कर हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फर्रुखाबाद। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अस्पतालों में बच्चों की मौत को रोकने में नाकाम साबित हो रही है। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में मासूमों की मौत के बाद अब फर्रुखाबाद के अस्पताल में बच्चों की मौत का मामला सामने आया है। यहां डॉ. राम मनोहर लोहिया राजकीय संयुक्त अस्पताल में एक माह के भीतर 49 बच्चे दम तोड़ चुके हैं। जांच रिपोर्ट में इन बच्चों की मौत की वजह ऑक्सीजन व दवाओं की कमी और इलाज में लापरवाही बताई गई है।

 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक फर्रुखाबाद के एसपी दयानंद मिश्रा ने बताया कि इस मामले में सीएमओ, सीएमएस और लोहिया अस्पताल के कुछ डॉक्टरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आगे की कार्रवाई जांच प्रक्रिया के आधार पर की जाएगी।

 

जिला प्रशासन की जांच रिपोर्ट में खुलासा होने के बाद यह एक्शन लिया गया है। दरअसल, मीडिया में बच्चों की मौतों की खबर आने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी थी। इसके बाद डीएम रविंद्र कुमार ने त्वरित पहल दिखाते हुए मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से इन मौतों पर रिपोर्ट मांगी।

 

जांच के दौरान अधिकारियों ने एसएनसीयू वार्ड का दौरा किया और परिजनों से बात की। परिजनों ने अधिकारियों को बताया कि कई बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई। कुछ में कथित रूप से डॉक्टरों की लापरवाही भी सामने आई। ऐसे में जांच रिपोर्ट के आधार डीएम रविंद्र कुमार ने एफआईआर के आदेश दिए।

 

उल्लेखनीय है कि इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के गढ़ कहे जाने वाले गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज से भी बच्चों की मौत के मामले सामने आए थे। बीआरडी मेडिकल कॉलेज से प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस वर्ष जनवरी में 152 बच्चों की मौत हुई, फरवरी में 122, मार्च में 159, अप्रैल में 123, मई में 139, जून में 137, जुलाई में 128 और अगस्त में 325 बच्चों की मौत हो चुकी है। सितंबर के पहले दो दिन की 32 मौतों को मिला लें तो इस साल अब तक मेडिकल कॉलेज में 1317 बच्चों की मौत हुई। इन मौतों केबाद उत्तर प्रदेश सरकार की चौतरफा आलोचना हो रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments