Saturday, April 13, 2024
No menu items!
Homeइंसानियत के रखवालेक्या पूरी दुनया पर होगी मुसलमानों की हुकूमत? कौन है जो पूरी...

क्या पूरी दुनया पर होगी मुसलमानों की हुकूमत? कौन है जो पूरी दुनया पर इस्लामी कानून लागु करेगा?  कैसी होगी इमाम मेहदी (अ) की अदालत और इन्साफ़? पढ़िए इस्लाम धर्म की मान्यताएँ… V.o.H News

इस्लाम धर्म की कुछ रिवायतों में मिलता है कि सबसे पहला ज़ुल्म कुफ़्र व शिर्क है, जब हज़रत इमाम महदी (अ) की अदालत कायम होगी तो इस तरह का ज़ुल्म का दुनिया से नाम व निशान मिट जायेगा। इस बारे में अबु बसीर की रिवायत है…

 

 

इमाम ऐ जुमा- मौलाना सय्यद मोहम्मद रज़ा ज़ैदी
इमाम ऐ जुमा- मौलाना सय्यद मोहम्मद रज़ा ज़ैदी
इमाम मेहदी (अ) के ज़ुहूर (प्रकट) होने के बाद जिस अदालत का वादा किया गया है, वह इतने बड़े स्तर पर है कि दुनिया की कोई भी हुकूमत इस स्तर पर अदालत संचालित नही कर सकती है
अदालत, ज़ुल्म के मुक़ाबिले में बोला जाने वाला शब्द है। इसलिए अदालत को समझने के लिए ज़ुल्म को समझना ज़रूरी है। इस्लामी रिवायतों में ज़ुल्म को तीन भागों में बाँटा गया है।
1– ख़ुदा पर ज़ुल्म अर्थात कुफ़्र व शिर्क। 2- अपने ऊपर ज़ुल्म अर्थात गुनाह। 3- दूसरों पर ज़ुल्म अर्थात अत्याचार।
हज़रत इमाम महदी (अ) ज़हूर के बाद ज़ुल्म को समाप्त करके अद्ल और इन्साफ़ को फैलायेंगे इसलिए ऊपर बयान किये गये तीनों ही क्षेत्रों में अदालत पैदा की जायेगी।
हम इस लेख में इमाम महदी (अ) की अदालत के विभिन्न पहलुओं का वर्णन रिवायतों के आधार पर  इस प्रकार कर सकते हैं।
1- इन्सान और ख़ुदा के बीच की अदालत
कुछ रिवायतों में मिलता है कि सबसे पहला ज़ुल्म  कुफ़्र व शिर्क है, जब हज़रत इमाम महदी (अ) की अदालत कायम होगी तो इस तरह का ज़ुल्म का दुनिया से नाम व निशान मिट जायेगा। इस बारे में अबु बसीर की रिवायत है कि मैं अबा अब्दिल्लाह (अ) से सवाल किया कि क़ुरआने करीम की इस आयत ” वह जिसने अपने रसूलों को हिदायत व सही दीन के साथ भेजा ताकि वह दीन को पूरे दीन को ज़ाहिर करें चाहे यह बात मुशरिकों को अच्छी न लगे। ” [1]   का क्या मतलब है ? हज़रत ने जवाब दिया कि अल्लाह की क़सम अभी इस आयत की तावील नाज़िल नही हुई है। मैं ने कहा कि मैं आप पर क़ुरबान, यह बता दीजिये कि कब नाज़िल होगी ? इमाम ने जवाब दिया कि जब अल्लाह की मर्ज़ी से क़ाइम (इमामे ज़माना) क़ियाम करेगें। बस जब वह क़ियाम (जंगा का एलान)  करेंगे तो कोई काफ़िर व मुशरिक बक़ी नही रहेगा, उन लोगों को अलावा जो उनके क़ियाम से ख़ुश न हों। यहाँ तक कि अगर कोई कोफ़िर या मुशरिक पत्थर के अन्दर भी होगा तो पत्थर आवाज़ देगा कि ऐ मोमिन काफ़िर या मुशरिक मेरे अन्दर छुपा है, उसे क़त्ल कर दो। बस अल्लाह उसे ज़ाहिर करेगा और वह मोमिन उसे क़त्ल कर डालेगा।
इस आयत के बारे में एक रिवायत और है जो इस बात पर दलालत करती है कि जब  हज़रत इमाम महदी (अ) का ज़हूर होगा तो कुफ़्र व शिर्क का नामो निशानमिट जायेगा और पूरी दुनिया में दीने हक़ का बोल बाला होगा। [2]
2- इन्सान की अपने आप से अदालत
 हज़रत इमाम महदी (अ) जब प्रकट होंगे तो हर तरह के ज़ुल्म को समाप्त करके अदालत क़ायम करेंगे। वह उस ज़ुल्म को भी ख़त्म करेंगे जो इंसान अपने ऊपर करता है।
रिवायत में मिलता है कि अल्लाह हज़रत इमाम महदी (अ) के ज़रिये उम्मत को वुसअत देगा और वह बंदों के दिलों को इबादत से भर देगा और उनकी अदालत को फैला देगा। अल्लाह इमाम के ज़रिये झूठ को ख़त्म करेगा और लडाई  झगड़े वाली जानवरों जैसी ज़िन्दगी को ख़त्म करके तुम्हारी गर्दन से ग़ुलामी व ज़िल्लत की तौक़ को निकाल देगा।
हज़रत अली (अ) की एक रिवायत में आया है कि हज़रत इमाम महदी (अ) के ज़हूर के ज़माने में अदालत इंसान के अन्दर भी फैल जायेगी और सब लोग सही व सच्ची ज़िन्दगी की तरफ़ पलट जायेंगे।
वह ज़मीन को अद्ल व इन्साफ़ से भर देंगे पूरी दुनिया उनके सामने झुक जायेगी. तमाम काफ़िर ईमान ले आयेंगे बुरे लोग अच्छाई को अपना लेंगे और उनकी हुकूमतमें दानवर भी एक दूसरे के साथ मेल जोल से रहेंगे।
3- दूसरों के साथ अदालत व इन्साफ़
हज़रत इमाम रज़ा (अ) ने फ़रमाया कि अल्लाह क़ाइम के माध्यम से हर प्रकार की बुराई को दूर और हर तरह के ज़ुल्म को समाप्त कर देगा ….जब वह क़ियाम करेंगे तो ज़मीन अल्लाह के नूर से प्रकाशमयी हो जायेगी, वह लोगों के बीच अद्ल की तराज़ू को गाड़ देंगे फिर कोई किसी पर ज़ुल्म नही करेगा।  
हज़रत इमाम महदी (अ) के माध्यम से होने वालो दूसरे न्याय
हज़रत इमाम महदी (अ) के ज़हूर के बाद जब उनकी हुकूमत स्थापितत होगी तो पूरे इंसानी समाज़ में न्याय स्थापित होगा और इंसानी ज़िन्दगी को कोई भी पहलु न्याय से ख़ाली नही रहेगा। आपके समय में स्थापित होने वाले कुछ न्यायों का वर्णन रिवायतों में इस प्रकार हुआ है।
4-शिक्षा व सभ्यता सम्बन्धी अदालत
हज़रत इमाम महदी (अ) के समय में शिक्षिक व सास्कृतिक विकास का सबको समान अधिकार होगा,चाहे वह किसी भी रंग व नस्ल के हों। उनकी हुकूमत के दौरान अज्ञानता, मूर्खता व कम अक़्ली का ख़ात्मा हो जायेगा और हर इंसान अपनी सामर्थ्य के अनुसार पढ़ा लिखा होगा। इस बारे में हज़रत इमाम मुहम्मद बाक़िर (अ) की एक हदीस है कि जब हमारा क़ाइम क़ियाम करेगा तो अल्लाह उसके हाथ को बन्दों के सारों पर फिरवायेगा जिससे उनकी अक़्ल बढ़ जायेगी।
एक अन्य हदीस में मिलता है कि उनकी हुकूमत के दौरान तुम्हारे अन्दर इतनी हिकमत पैदा हो जायेगी कि घर में बैठ हुई औरतें भी अल्लाह की किताब और पैग़म्बर (स.) की रविश से मुजतहिदों की तरह अपने मसाइल को हल करेंगी।
5-फैसलों में न्याय
हज़रत इमाम महदी (अ) की हकूमत में समस्त फ़ैसले न्याय पूर्वक होंगे और उनमें किसी भी तरह की कोई ग़लती नही होगी और इस तरह समाज़ में ज़ुल्म को रोका जायेगा।
इस सम्बन्ध में बहुत सी रिवायतें मौजूद हैं जिनमें से हम यहाँ सिर्फ़ कुछ का तरफ़ ही इशारा कर रहे हैं।
हज़रत इमाम सादिक़ (अ) ने फ़रमाया कि जब क़ाइमें आले मुहम्मद क़ियाम करेगें तोलोगों के बीच हज़रत दाऊद की तरह फ़ैसले करेगे, उन्हें किसी सबूत या गवाह की ज़रूरत नही होगी क्योंकि अल्लाह उन पर सब बातों का इल्हाम करेगा और वह अपने इल्म से फैसला करेंगे। वह हर हर क़ौम को उस चीज़ के बारे में बतायेंगे जो उन्होंने छुपाई होगी।
6-आर्थिक इन्साफ़
समाजिक न्याय का एक महत्वपूर्ण आधार आर्थिक न्याय है। यह कहना ग़लत न होगा कि इंसानी समाज़ में विभिन्न इन्क़ेलाब आये हैं वह किसी न किसी तरह आर्थिक व्यवस्था से सम्बन्धित रहे हैं। अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि इंसान ने आर्थिक न्याय के लिए जितनी अधिक कोशिश की है,उसे इस सम्बन्ध में उतनी ही कम सफ़लता मिली है। कुछ सीमित समय को छोड़ कर ज़मीन पर आर्थिक अन्याय का व्याप्त रहा है।
हज़रत इमाम महदी (अ) की हुकूमत जो कि ज़मीन पर आखिरी हुकूमत होगी, उसमें आर्थिक न्याय को वरीयता दी जायेगी। इस सम्बन्ध में बहुत सी हदीसें मिलती हैं जैसे पैग़म्बरे इस्लाम (स.) ने फ़रमाया कि महदी मेरी उम्मत से है…. मेरी उम्मत उनके समय में (चाहे व नेक हों या बद) ऐसी ख़ुशहाली में होगी कि उससे पहले ऐसी खुशहाली उन्हें कभी नसीब न हुई होगी। आसमान से खूब बारिशें होंगी और ज़मान से बहुत चीज़े उपजेंगी। उस समय में मालो दौलत फ़सलों के बिखरे हुए ढेर की तरह होगी। जब कोई इंसान उनके पास मदद माँगने के लिए आयेगा तो वह जितना उठा सकेगा उसके कपड़े में बाँध देंगे।
हज़रत इमाम मुहम्मद बाक़िर (अ) उनके ज़माने के आर्थिक न्याय को इस तरह बयान करते हैं कि वह माल व दौलत को अल्लाह की मख़लूक़ के दरमियान अदालत के साथ बाँटेगे चाहे वह लोग नेक हों या बुरे। फेसबूक से जुड़ें – यहाँ क्लिक करके पेज लाइक करें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments